Thursday, August 17, 2017

हम सहल-तलब कौन से फ़रहाद थे लेकिन
अब शहर में तेरे कोई हम सा भी कहाँ है
-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

(सहल-तलब = आराम-तलब)

ख़ुद को इतना जो हवा-दार समझ रक्खा है

ख़ुद को इतना जो हवा-दार समझ रक्खा है
क्या हमें रेत की दीवार समझ रक्खा है

हम ने किरदार को कपड़ों की तरह पहना है
तुम ने कपड़ों ही को किरदार समझ रक्खा है

मेरी संजीदा तबीअत पे भी शक है सब को
बाज़ लोगों ने तो बीमार समझ रक्खा है

उस को ख़ुद-दारी का क्या पाठ पढ़ाया जाए
भीक को जिस ने पुरुस-कार समझ रक्खा है

तू किसी दिन कहीं बे-मौत न मारा जाए
तू ने यारों को मदद-गार समझ रक्खा है

-हसीब सोज़

Friday, August 4, 2017

कभी आ के चुपके से सौगात रख दे

कभी आ के चुपके से सौगात रख दे
धड़कते हुए दिल पे तू हाथ रख दे।

सफ़र काट लूँगा मैं इस ज़िन्दगी का
ज़रा सी मुहब्बत मेरे साथ रख दे।

थकन ओढ़ ली उम्र भर की है मैंने
कोई आ के आँखों में अब रात रख दे।

मैं पत्थर सा होने लगा पत्थरों में
मेरे दिल में तू चंद जज़्बात रख दे।

यूं लगने लगेगा सफ़र मुझको आसां
ज़रा दूर तक हाथ में हाथ रख दे।

शजर जिस्म का तू सुलगने से पहले
मेरी ख़ुश्क आँखों में बरसात रख दे।

(शजर = पेड़)

समझ आएगा फ़ल्सफ़ा ज़िन्दगी का
कहानी में तू मेरे हालात रख दे।

नहीं मांगता मैं दुआ में कभी कुछ
मेरी मुट्ठियों में तू इफ़रात रख दे।

(इफ़रात = अधिकता/प्राचुर्य)

भटकने लगूं मैं जो राहे ख़ुदा से
ज़ेहन में मुक़द्दस ख़यालात रख दे।

(मुक़द्दस = पवित्र)

- विकास 

दास्तान ए रेख़्ता

बेसहारा, बे-नवा, बेचारा, बेकस, रेख़्ता
कूचा ओ बाज़ार में था मुफ़लिसी में फिर रहा
.
ताकता था हसरतों से कोठियों की शान को
देखता था हैरतों से पीर और तिफ़्लान को
.
धोबी, मोची, बनिया, बुनकर और सिपाही ज़ात के
थे फ़क़त एहल ए ज़ुबां उन मुख़्तसर औक़ात के
.
साहिबान ए बज़्म को भाता था कब फूटी नज़र
पर इनायत का वो उनके मुंतज़िर था किस क़दर
.
दस्त ए शफ़क़त से क़ुतुब शह के ज़रा क़िस्मत खुली
कुछ तवानाई भी आई जब वली की शह मिली
.
था वली का क़ौल, जो मिस्कीन का बानी हुआ
"ग़म तेरा सीने में मेरे हमदम-ए-जानी हुआ"
.
चल के दक्कन से ये देहली आ गया था बे-वतन
पर यहाँ भी हाल उसका था जो था मुल्क ए दकन
.
आरज़ू ओ आबरू ओ  मिर्ज़ा  मज़हर जानेजाँ
की मेहरबानी से बाक़ी है अभी नाम ओ निशाँ
.
वरना मारे देते थे इस को तो हज़रात ए सुख़न
और नज़्र ए गोर करते इसको सब एहल ए वतन
.
था जुआ-ख़ाने की ज़ीनत, मैकदे में पल रहा
चावड़ी बाज़ार में ख़ानम के कोठे का दिया
.
फ़ारसी थी सर चढ़ी बज़्म ए तरब में इस क़दर
रेख़्ता को बैठने देता ना था कोई बशर
.
दर्द, सौदा भी सिराज ओ क़ायम ए उर्दू शिनास
पुख़्ता करने में लगे थे रेख़्ता की वो असास
.
आया देहली में नज़र जो शायरों का पीर था
नाम उस आशुफ़्ता सर का हम बताएँ मीर था
.
क्या कहूँ बस सोज़ से दीवान तक लबरेज़ है
"हर वरक़ हर सफ़हा में इक शेर ए शोर-अंगेज़ है"
.
कूचा ए देहली में गूँजी रेख़्ता की बोलियाँ
फ़ारसी सरकी ज़रा कुछ जा बनाई दरमियाँ
.
फिर नज़ीर ओ मस्हफ़ी, इंशा ओ जुरअत, ज़ौक़ भी
परवरिश में लग गये और परवरिश भी ख़ूब की
.
एक बदक़िस्मत ज़फ़र भी था जो था एहल ए क़लम
पर कलाम इसका है नज़्र ए जौर ए  एहबाब ए करम
.
कू ए जानाँ में अजब कोहराम बरपा हो गया
"छोड़ कर काबा को बुत-ख़ाना में जब मोमिन फँसा"
.
ख़ान ए मोमिन था इन्ही वक़्तों का इक शायर भला
था तख़य्युल जिस का नाज़ुक और तगज़्ज़ुल दिलरुबा
.
रेख़्ता को पर नयी इक ताज़गी दरकार थी
इस ग़िज़ाल ए गुलसिताँ को हाजत ए रफ़्तार थी
.
फ़ारसी को रश्क हो जिस पर वो आया अन्क़रीब
गुलशन ए ना आफ़रीदा का नवा संज अंदलीब
.
बरगज़ीदा आसियों में पर सुख़न का था वली
ग़ालिब ए शीरीं बयाँ से कौन रहता अजनबी
.
आबरू जिस की ना थी एहल ए वतन के दरमियाँ
ता क़यामत याद रख्खेगा उसे सारा जहाँ
.
वो सुख़नवर बस असदुल्लाह ख़ाँ ग़लिब ही था
"बज़्म ए मय वहशत कदा था जिस के हर्फ़ ए मस्त का"
.
इस ज़माने में हुए पंडित दया शंकर नसीम
रेख़्ता के वास्ते ये नाम है बेहद अज़ीम
.
आया फिर दश्त ए सुख़न में एक वो मोजिज़ बयाँ
रेख़्ता का फ़ख़्र थी जिस की ज़ुबाँ की शोख़ियाँ
.
दाग़ के तर्ज़ ए बयाँ पर सब को हैरानी हुई
"अश्क-अफ़्शानी भी उसकी गौहर-अफ़्शानी हुई"
.
ख़ूबी ए गुफ़्तार में उस से ना था ऊँचा कोई
वैसा इक उस्ताद भी आया ना दोबारा कोई
.
दाग़ के ज़ेर ए नज़र फिर ये हुआ कुछ मामला
रेख़्ता तालीम पा कर और मोहज़्ज़ब हो गया
.
गो कि शायर ख़ूब तर पैदा हुए तब और अब
इन में लेकिन ख़ास हैं कुछ जिन से है रौशन अदब
.
रेख़्ता है जिन से मुमकिन, जिस की ये दस्तार हैं
मीर ओ ग़ालिब, दाग़ ओ मोमिन, यार इस के चार हैं
.
रेख़्ता इज्दाद का तोहफ़ा है, इक तहज़ीब है
दिल से दिल के राब्ते के वास्ते तरकीब है
.
एक गौहर क़ीमती है हाथ में हम आप के
ये अगर गुम हो गया तो हाथ मलते जाएँगे
.
क्यूँ सिखाएं अपने बच्चों को यहाँ जंग ओ जदल
बस मोहब्बत ही है जब सरमाया ए नज़्म ओ ग़ज़ल
.
बात बाबर ख़ूब खींची तूने अब कर मुख़्तसर
कुछ ख़ता गर हो गयी हो कीजिएगा दरगुज़र
.
-बाबर इमाम
.
===meanings====
tiflaan = bachche, children
tawaanaai = taaqat, strength
shafqat = affection
bazm e tarab =khushi ki mehfil
urdu shinaas = urdu pehchaanne waale
asaas = neev
aashufta = bikhra hua, scattrered
labrez = bhara hua
safha = page
takhayyul = khayaal
taghazzul = ghazal ki khoobsurti, rhythm
naa afreeda = jo abhi bana nahin
andaleeb = a singing bird
nawaa sanj = gaane waala
bagazeeda = respected
aasiyon = gunahgaar
sheereeN bayaaN = jis ki baaten meethi hon
mojiz bayaaN = jis ki baaton mein jaadu ho
ashk-afshaani = aansuon bikherna
gauhar-afshaani = moti bikherna
guftaar = bolna
mohazaab = paak, behtar, civilized
dastaar = pagRi, izzat
ijdaad = poorvaj, ancestors,
tehzeeb = culture
raabta = contact
jang o jadal = war and battle
mukhtasar = short
Khata = ghalti
darguzar = overlook

ख़्वाब देखो, कोई ख़्वाहिश तो करो

ख़्वाब देखो, कोई ख़्वाहिश तो करो
जीना आसान है, कोशिश तो करो

आज भी प्यार है दुनिया में बहुत
जोड़कर हाथ गुज़ारिश तो करो

जंग ये जीती भी जा सकती है
ज़िंदगी से कोई साज़िश तो करो

सब्ज़-ओ-गुल हैं इसी ख़ाक तले
बनके बादल कभी बारिश तो करो

लोग मरहम भी लगायेंगे 'शकील'
पहले ज़ख़्मों की नुमाइश तो करो

-शकील आज़मी