Tuesday, May 31, 2016

किस तरह जमा कीजिये अब अपने आप को
काग़ज़ बिखर रहे हैं पुरानी किताब के
-आदिल मंसूरी

No comments:

Post a Comment