Saturday, October 22, 2016

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया
ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मिरे पास रह गया
-अब्दुल हमीद अदम

No comments:

Post a Comment