Wednesday, July 6, 2016

आज का दिन भी ऐश से गुज़रा
सर से पा तक बदन सलामत है
-जॉन एलिया

(पा = पैर)

1 comment:

  1. wah lajwab aaj ke halaat me aish ka is se behtreen chitran kya hoga :)

    ReplyDelete